Enquiry usto know more

merikundli
 

1 Mukhi Rudraksha (एक मुखी रुद्राक्ष)

1 Mukhi Rudraksha (एक मुखी रुद्राक्ष)

1 Faced Rudraksha is the rarest and most auspicious among all Rudraksha beads and is said and believed to be blessed with the blessings of Lord Shiva himself.

भगवान शिव की आंखों से गिरा प्रथम आंसू ही एकमुखी रुद्राक्ष है। इस रुद्राक्ष को सबसे अधिक कल्‍याणकारी और महत्‍वपूर्ण माना गया है। पूरे ब्रह्मांड की कल्‍याणकारी वस्‍तुओं में एकमुखी रुद्राक्ष पेंडेंट का नाम सर्वप्रथम आता है।

2450/-

Delivery:Within 5 - 7 Business Days (All over India)
Order on Call: +91-9315672434
Energization:Free Energizaton by Acharya ji( फ्री अभिमन्त्रण पंडित जी द्वारा)

Specification

Shape & Origin:
आकार एवं उत्‍पत्ति :
Soutn Indian Origin Kaju Shape Natural Rudraksha
दक्षिण भारतीय काजू आकार प्राकृतिक रूद्राक्ष
Weight (Gm):~3.2-3.6
Bead Size(mm):~35*20
Certification:GJL&I, New Delhi
Metal:silver, चांदी (92.5 Purity )

1 Mukhi Rudraksha helps to gain wealth along with energy and luck. It also helps to control over senses and bring concentration.

पूरे ब्रह्मांड की कल्‍याणकारी वस्‍तुओं में एकमुखी रुद्राक्ष का नाम सर्वप्रथम आता है।

Benefits of 1 Mukhi Rudraksha :

  • 1. 1 Mukhi Rudraksha brings the wearer close to Lord Shiva and also helps to connect to the spiritual world by meditating.
  • 2. It Gives concentration power and inner peace. Gives leadership qualities with skills to overcome stressful situations.
  • 3. It is very helpful to overcome any bad habit, addiction problem.
  • 4. It is also beneficial to overcome lack of confidence and helps in increasing charisma, personal power, the prosperity of the wearer.
  • 5. Enhances knowledge about the supreme power. Minimizes worldly attachment. Wearer gets control over his/her own senses.
  • 6. It also helps to washes off all the sins (all type of sins) of the wearer.

एकमुखी रुद्राक्ष के लाभ

  • 1. एक एकमुखी रुद्राक्ष पेंडेंट धारण करने से व्‍य‍क्‍ति पापों से भी मुक्‍ति पा सकता है।
  • 2. इस एकमुखी रुद्राक्ष पेंडेंट के प्रभाव में मनुष्‍य ज्ञान की प्राप्‍ति की ओर अग्रसर होता है।
  • 3. इसे धारण करने से मनुष्‍य की उसके शत्रुओं से रक्षा होती है।
  • 4. धन प्राप्‍ति में भी एकमुखी रुद्राक्ष पेंडेंट सहायक होता है।
  • 5. इस एकमुखी रुद्राक्ष के प्रभाव में मनुष्‍य अपनी इंद्रियों को वश में कर ब्रह्म ज्ञान की प्राप्‍ति की ओर अग्रसर होता है।

How to use 1 Mukhi Rudraksha:

One can wear it with a silk or cotton thread. It can be worn as a bracelet or necklace. Slightly Cracked can work but eaten by worms must be avoided.

एक मुखी रुद्राक्ष की प्रयोग विधि

एक मुखी रुद्राक्ष को धारण करने का मंत्र “ॐ ह्रीं नमः” है और शिव का पंचाक्षर बीज मंत्र “ॐ नमः शिवाय” है। दोनों में से किसी भी एक मंत्र का उच्‍चारण कर एकमुखी रुद्राक्ष को धारण किया जा सकता है।

ध्‍यान रहे नियमित पांच माला का “ॐ नमः शिवाय” मंत्र का जाप करने से इसका प्रभाव कई गुना बढ़ जाता है।

हमसे क्‍यों लें

एकमुखी रुद्राक्ष को हमारे पंडितजी द्वारा अभिमंत्रित कर के आपके पास भेजा जाएगा जिससे आपको शीघ्र अति शीघ्र इसका पूर्ण लाभ मिल सके।

2450/-